इसी को निस्वार्थ सेवा कहते हैं !! – स्वामी बोतलानन्द

मुझे शराब की बोतल का
स्वभाव पसन्द आता है

जो खुद ‘खाली‘ होकर
दूसरो को ‘फुल‘ कर देती है!

इसी को निस्वार्थ सेवा कहते हैं !!

– स्वामी बोतलानन्द
😝

🍾 🍾

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *